सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की मूल बातें – Search Engine Optimization in Hindi

Learn the basics of Search Engine Optimisation in Hindi.

इस पोस्ट में हम चर्चा करेंगे सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के बारे में। अगर सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन को आसान शब्दों में समझा जाए तो सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का मतलब है कि आप अपनी वेबसाइट वीडियो या मोबाइल एप्लीकेशन को सर्च इंजन के अनुकूल बना रहे हैं।

सर्च इंजन में विश्व का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण सर्च इंजन है Google। आपने खुद गूगल का इस्तेमाल किया होगा किसी चीज के बारे में सर्च करने के लिए।

अगर आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट भी गूगल की सेवाओं का फायदा उठा है और उसकी सर्च मैं ऊपर आए तो आपके लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन जानना बहुत ही आवश्यक है।

विश्व में करीब करीब 80% सर्च ट्रैफिक Google से आता है। Google के बाद सबसे बड़ा सर्च इंजन है बिंग।

Google पर हर सेकंड पूरे विश्व में 63 हजार से ऊपर सर्च होती है। इसमें से ज्यादातर सर्च एक मोबाइल डिवाइस पर होती है। ऐसा देखा गया है कि जो उपभोक्ता एक स्थानीय जगह के बारे में Google पर सर्च करते हैं उनमें से 72 प्रतिशत लोग स्थानीय जगह का दौरा कर कर आते हैं अगर वह जगह 5 मील के अंदर है।

यह भी देखा गया है की 78% स्थानीय सर्च की वजह से एक दुकान में सेल होती है। यह भी देखा गया है कि 51 प्रतिशत स्मार्टफोन यूज़र ने एक नई कंपनी प्रोडक्ट के बारे में पता किया अपने स्मार्टफोन पर सर्च करके।

अगर आपकी वेबसाइट Google के सर्च रिजल्ट में पहले नंबर पर आती है तो आपको उस शख्स पर कम से कम 34% क्लिक मिलेंगे और यह भी बिना किसी खर्चे के। इसी वजह से जो विश्व की सबसे बड़ी कंपनियां है वह सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन याने कि अपनी वेबसाइट को सर्च के अनुकूल बनाने के लिए बड़ी-बड़ी टीमों का और आधुनिक तकनीकों का प्रयोग करती है।

तो अगर आप जाना चाहते हैं कि आप भी अपनी वेबसाइट या अपनी कंपनी की वेबसाइट को गूगल के पहले सर्च रिजल्ट में कैसे ला सकते हैं तो आपको सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के बारे में जानना बहुत जरूरी होगा।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन को आसान बनाने के लिए गूगल ने काफ़ी तकनीकों की जानकारी दी है जिससे Google को यह पता लगता है कि कौन सी वेबसाइट सर्च पर पहले आने चाहिए और कौन सी वेबसाइट उसके सर्च रिजल्ट पर बाद में आनी चाहिए।

तो आप की वेबसाइट Google की सर्च में कौन सी श्रेणी पर आएगी वह आपकी वेबसाइट किस सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन पर निर्भर है। अगर आपकी वेबसाइट सर्च के परिणामों में नीचे आती है तो इससे आपकी वेबसाइट पर कम लोग आएंगे और आप के बिजनेस या संस्था के बारे में कम लोगों को पता लगेगा। अगर आपका प्रतिस्पर्धा व्यवसाय या कंप्यूटिंग बिजनेस आप से ऊपर आ रहा है Google के सर्च रिजल्ट पर तो उसको ज्यादा फायदा होगा और ज्यादा कस्टमर हो सकता है कि उसके पास जाएं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की सबसे बड़ी खूबी यह है कि आपको अपनी वेबसाइट पर लोग बिना कोई खर्चा की है मिलते हैं। अगर आपकी वेबसाइट बिजनेस या मोबाइल आपका सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन अच्छा हो रखा है तो इसका यह मतलब है कि कम खर्चे पर आप ज्यादा लोगों तक अपनी बात अपना प्रोडक्ट अपनी सर्विस या अपनी संस्था के बारे में बता सकते हैं।

आज की तारीख में भारत में तकरीबन 95% सर्च Google पर होती है तो इसलिए जब भी हम सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की बात करेंगे हम Google के बारे में बात करेंगे। इसका महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है क्योंकि 87 प्रतिशत स्मार्टफोन यूज़र सर्च इंजन को कम से कम एक बार इस्तेमाल करते हैं दिन में।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन उन सर्च रिजल्ट के बारे में है जो कि आप बिना खर्चा किए Google या अन्य सर्च इंजनों पर लाते हैं। इनको अंड या कमाए हुए रिजल्ट भी कहते हैं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में तकनीकी और रचनात्मक अंग है। अपनी सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की पूरी सीरीज में हम इन दोनों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

आगे हमें सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन को अच्छी तरह से समझने के लिए यह जानना पड़ेगा कि ऑनलाइन सर्च और गूगल जैसी कंपनियां आखिर चलती कैसे है।

इसकी चर्चा हम विस्तार से करेंगे अपने आगे ब्लॉग पोस्ट में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *