On the page Search Engine Optimization in Hindi

लिंक बिल्डिंग – Link Building

नमस्कार| आपका डिजिटल मार्केटिंग की हिंदी सीरीज में फिर से स्वागत है| In this post learn more about link building in Hindi. This post is a part of Digital marketing in Hindi series by Viral Patrika.

लिंक बिल्डिंग सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है और यह ऑफ-साइट सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में आता है|

लिंक्स सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है| इस पोस्ट में हम चर्चा करेंगे लिंक बिल्डिंग के बारे में| सरल भाषा में लिंक बिल्डिंग अपने वेबसाइट के लिंक बनाने का तरीका है जिससे आपकी वेबसाइट गूगल सर्च या अन्य सर्च इंजनों के अनुकूल बनेगी| इसमें दो तरह के लिंक आते हैं
पहला है इंटरनल जाने की वह लिंक जो आपकी वेबसाइट पर मौजूद होते हैं और आपकी वेबसाइट पर अन्य व्यक्ति जिस की तरफ इशारा करते हैं| दूसरे होते हैं एक्सटर्नल जो कि आपकी वेबसाइट पर किसी दूसरी वेबसाइट की ओर इशारा करते हैं|

इंटरनेट लिंक (Internal Link) – इंटरनल लिंक्स ऐसे लिंक होते हैं जो एक डोमेन पर एक पेज से एक ही डोमेन पर किसी अन्य पेज पर जाते हैं। वे आमतौर पर मुख्य नेविगेशन में उपयोग किया जाता है।

नीचे हमने एक उदाहरण दिया है इंटरनल लिंक का| जो लिंक मुख्य नेविगेशन में लाल रंग से दिखाए गए हैं वह लिंक viralpatrika.com पर ही एक अन्य पेज खोलते हैं| क्योंकि यह पेज आप को viralpatrika.com पर ही रखते हैं, इसी वजह से इनको इंटरनल लिंक बोलते हैं|

Internal Links - Digital Marketing in hindi series.

इंटरनल लिंग के 3 फायदे होते हैं

  • वे उपयोगकर्ताओं को एक वेबसाइट पर नेविगेट करने की अनुमति देते हैं |
  • वे दिए गए वेबसाइट के लिए सूचना पदानुक्रम को स्थापित करने में सहायता करते हैं।
  • वे वेबसाइटों के आसपास लिंक का रस (रैंकिंग पावर) फैलाने में मदद करते हैं

एक्सटर्नल लिंक (External Link) – एक्सटर्नल लिंक वह लिंक होते हैं जो आपके डोमेन के अलावा किसी और डोमेन पर यूजर को भेजते हैं| मान लीजिए की वायरल patrika.com पर हमने दैनिक jagran.com का एक लिंक दिया तो उसे एक्सटर्नल लिंक कहेंगे| यह लिंक एक यूजर को आपकी वेबसाइट के बाहर ले जाते हैं| ऐसे ही अन्य वेबसाइट पर अगर आपकी वेबसाइट का लिंक होगा तो वह और अन्य वेब साइट्स के लिए एक्सटर्नल लिंक है और आप के लिए बैक लिंक है|

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन विशेषज्ञों का मानना ​​है कि बाहरी लिंक रैंकिंग शक्ति का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं
यह इंटरनल लिंक से भी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है किसी भी वेब पेज के लिए| अगर कोई प्रभावशाली वेबसाइट आपकी वेबसाइट को एक एक्सटर्नल लिंक देती है तो इससे आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन रिजल्ट में ऊपर आने में बहुत फायदा होगा| सर्च इंजन इन को एक वोट की तरह भी मानते हैं| अगर ज्यादा व्यक्ति आप को वोट देंगे तो आपकी सर्च इंजन में रैंक बढ़ेगी| सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के नजरिए से देखा जाए तो ज्यादा वोट का मतलब है कि ज्यादा बैक लिंक | तो अगर ज्यादा वेबसाइट आप को वोट देती हैं या फिर ज्यादा महत्वपूर्ण वेबसाइट आपको वोट देती है ( जाने के बैकलिंक देती है) इस से आपकी वेबसाइट सर्च इंजन के रिजल्ट में ऊपर आएगी| इससे आप की वेबसाइट Google पर आने वाले हजारों लोगों के सर्च किए गए कीवर्ड के सर्च रिजल्ट में ऊपर आएगी इसका मतलब है आप की वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक फ्री में आएगा|
आपको अपनी वेबसाइट के लिए लिंक बनाते रहना जरूरी है| जो लिंक एक समय पर लोकप्रिय या पॉपुलर थे मैं अब इतने ताज़ा ना हो| इसी वजह से शायद कम लोग उन लिंक पर क्लिक करके आपकी वेबसाइट पर आएं| इसी वजह से एक्सटर्नल लिंक समय-समय पर बनाते रहना बहुत जरूरी है|

एंकर टेक्स्ट (Anchor text) – एंकर टेक्स्ट बाहर टेक्स्ट होता है या वह शब्द होते हैं जिन पर आप क्लिक कर सकते हैं| यह ज्यादातर वेब ब्राउज़र में नीले रंग से दिखता है| आप इन पर जब भी अपना माउस लाएंगे तो आप इन पर क्लिक कर पाएंगे| एक उदाहरण ले तो यह लिंक वायरल पत्रिका के होम पेज पर जाता है| इसमें “वायरल पत्रिका के होम पेज” एक एंकर टेक्स्ट है|

इसका कोड कुछ ऐसा दीखता है  <a href=”http://www.viralpatrika.com”>वायरल पत्रिका के होम पेज</a>

एंकर टेक्स्ट दोनों सर्च इंजन और यूजर्स को एक लिंक के बारे में ज्यादा जानकारी देता है|एक एंकर टेक्स्ट जितना वर्णात्मक होगा उतना ही अच्छा होगा क्योंकि वह सर्च इंजन और यूजर को ज्यादा अच्छी जानकारी दे पाएगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *